निधिवन
10
May

निधिवन : जंहा पेड़ रात में होते है गायब,भगवान आते है रोज

पेड़-पौधे हमेशा एक जैसे दिखाई देते है लेकिन लम्बे समय के बाद उनमे परिवर्तन देखा जा सकता है लेकिन क्या आपने कभी इसे पेड़ देखे है जो दिनमें तो समय पेड़ या लता दिखाई देती है लेकिन रात में अपना रूप बदलकर गोपी बन जाती है जी हां ऐसा ही होता है कुछ उत्तर प्रदेश में स्थित वृन्दावन के निधि वन में कहा जाता है कि आज भी निधिवन में वह रासलीला शरद पूर्णिमा को संपन्न होती है.आत्मानंदी साधक को महारास का साक्षात्कार होता है.

श्रीमदभागवत में मिलता है प्रमाण

श्रीमद्भागवत के दशम स्कन्द में रास पंचाध्यायी में भगवान श्रीकृष्ण द्वारा इसी शरद पूर्णिमा को यमुना पुलिन में गोपिकाओं के साथ महारास के बारे में बताया गया है.मनीषियों का मानना है कि जो श्रद्धालु इस दिन चन्द्रदर्शन कर महारास का स्वाध्याय, पाठ, श्रवण एवं दर्शन करते है उन्हें हृदय रोग नहीं होता साथ ही जिन्हें हृदय रोग की संभावना हो गई हो उन्हें रोग से छुटकारा मिल जाता है।

दिन में दिखाई देने वाले वृक्ष हो जाते है गायब

कहते है की जब भगवान श्रीकृष्ण आते है तो दिन में दिखाई देने वाले ये वृक्ष ही रात को गोपिया बन जाती है और महारास रचाते है.रात में भगवान कृष्ण की इस रास-लीला को भूलकर भी नहीं देख सकते जिसने भी इस वन में रात को भगवान की रास-लीला देखने की भूल की है  वो यहां से जिंदा बाहर नहीं निकला है रात में तो ये वन बंद कर दिया जाता है आप सिर्फ बांसुरी और घुंघरुओं की आवाज सुन सकते है.

Related Post