Bhartiya Janta Party
09
Nov

भारतीय जनता पार्टी

भारतीय जनता पार्टी (अंग्रेज़ी: Bharatiya Janata Party, संक्षेप नाम:भाजपा) भारत का एक प्रमुख राजनीतिक दल है। भारतीय जनता युवा मोर्चा (BJYM) इस दल का युवा संगठन है। इस पार्टी ने अपनी शुरुआत हिन्दू एजेंडे के साथ की थी। इसका वैचारिक और सांगठनिक ढ़ाँचा हिन्दू राष्ट्रवादी राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ से जुड़ा हुआ है। पार्टी का गठन पुर्नगठित जनसंघ के रूप में 6 अप्रैल, 1980 को सम्पन्न हुआ था। इसके प्रथम अध्यक्ष के रूप में अटल बिहारी वाजपेयी को चुना गया था। इस दल में अधिकांश सदस्य भूतपूर्व जनसंघ के शामिल हुए, जिसका 1977 में जनता पार्टी में विलय हो गया था। इसके साथ ही कुछ गैर जनसंघी भी इसमें शामिल हुए।

  • भारतीय जनसंघ की स्थापना अक्टूबर 1951 में डॉ श्यामा प्रसाद मुखर्जी ने की. श्यामा प्रसाद आजाद भारत की पहली कैबिनेट का हिस्सा थे.
  • 1952 में भारत में पहले आम चुनाव(लोकसभा) हुए. इस चुनाव में भारतीय जनसंघ ने हिस्सा लिया और तीन सीटें जीतीं. जनसंघ का रिक्गनाइज्ड राष्ट्रीय पार्टी के रूप में उदय हुआ.
  • 1957 के दूसरे लोकसभा चुनाव में भी भारतीय जनसंघ ने हिस्सा लिया. इस चुनाव में बीजेएस को 5 सीटें मिलीं. अटल बिहारी वाजपेयी पहली बार सांसद बने.
  • 1962 में तीसरे लोकसभा चुनाव हुए. इस चुनाव में जनसंघ को बड़ी बढ़त मिली और पार्टी ने 14 सीटों पर जीत दर्ज की.
  • 1967 के लोकसभा चुनाव में जनसंघ ने एक बार फिर बड़ी छलांग लगाई. इस बार पार्टी के 32 सांसद जीतकर आए. चुनाव के एक साल बाद
  • 1968 में जनसंघ के संस्थापक श्यामा प्रसाद मुखर्जी का निधन हो गया. इसके बाद 1969 में अटल बिहारी वाजपेयी भारतीय जनसंघ के अध्यक्ष चुने गए.
  • 1971 में पांचवीं लोकसभा के चुनाव हुए और भारतीय जनसंघ के 23 सांसद जीतकर आए.
  • 1973 में पार्टी की कमान लाल कृष्ण आडवाणी को मिली. इंदिरा गांधी के आपातकाल के फैसले के खिलाफ कई लोकतांत्रिक और राष्ट्रवादी राजनीतिक दल एक साथ आ गए. भारतीय जनसंघ और दूसरे कई दलों के इस महागठबंधन को ‘जनता पार्टी‘ का नाम दिया गया.
  • 1977 में छठवीं लोकसभा के लिए चुनाव हुए. इस चुनाव में कांग्रेस और इंदिरा गांधी को करारी शिकस्त का सामना करना पड़ा. जनता पार्टी को 302 सीटें मिलीं. मोरारजी देसाई प्रधानमंत्री बने. जबकि अटल बिहारी वाजपेयी विदेश मंत्री बने और लाल कृष्ण आडवाणी को सूचना एवं प्रसारण मंत्री की जिम्मेदारी मिली.
  • महागठबंधन का ये फॉर्मूला एक कार्यकाल भी पूरा नहीं कर पाया. आंतरिक कलह के चलते 30 महीनों के भीतर ही जनता पार्टी का विघटन हो गया. कई पार्टियों ने समर्थन वापस ले लिया. मोरारजी देसाई ने प्रधानमंत्री पद से इस्तीफा दे दिया. जून, 1979 में चौधरी चरण सिंह ने पीएम पद की शपथ ली. कांग्रेस ने चरण सिंह को समर्थन का वादा किया लेकिन सदन में बहुमत साबित करने से पहले ही कांग्रेस मुकर गई. नतीजा ये हुआ कि जनवरी,1980 में फिर से चुनाव कराए गए.
  • 1980 का लोकसभा चुनाव भारतीय जनसंघ ने जनता पार्टी के नाम पर ही लड़ा. जबकि चौधरी चरण सिंह ने जनता पार्टी (एस) पार्टी के नाम पर चुनाव लड़ा. जनसंघ के साथ जनता पार्टी को महज 31 सीटों पर जीत मिली. कांग्रेस ने 353 सीटों के साथ सरकार बनाई.
  • सातवीं लोकसभा की करारी हार ने बीजेपी को जन्म दिया. 6 अप्रैल 1980 को अटल बिहारी वाजपेयी के नेतृत्व में भारतीय जनता पार्टी का गठन किया गया. 1984 के अपने पहले लोकसभा चुनाव में बीजेपी को महज 2 सीटें मिलीं.
  • 1986 में लालकृष्ण आडवाणी ने पार्टी के अध्यक्ष के रूप में कमान संभाली. इसके बाद 1989 में नवीं लोकसभा के चुनाव में बीजेपी ने अप्रत्याशित बढ़त दर्ज की और 89 सीटें जीतीं. बीजेपी ने जनता दल को समर्थन देकर वीपी सिंह की सरकार बनवाई.
  • 1989 में ही बीजेपी ने राम मंदिर आंदोलन का समर्थन किया. 1990 में लालकृष्ण आडवाणी ने सोमनाथ से अयोध्या तक रथयात्रा निकाली. 1991 में मुरली मनोहर जोशी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष बने.
  • आडवाणी की रथयात्रा से देशभर में बीजेपी को समर्थन मिला. नतीजा ये हुआ कि 1991 के लोकसभा चुनाव में बीजेपी ने 121 सीटें जीतीं. किसी पार्टी को बहुमत नहीं मिला. कांग्रेस ने समर्थन से पीवी नरसिम्हा राव के नेतृत्व में सरकार बनाई.
  • 1993 में पार्टी की कमान एक बार फिर लालकृष्ण आडवाणी ने संभाली. 1996 के लोकसभा चुनाव में बीजेपी सबसे बड़ी पार्टी बनकर उभरी और 163 सीटों पर जीत दर्ज की. अटल बिहारी वाजपेयी के नेतृत्व में बीजेपी की केंद्र में सरकार बनी. लेकिन बहुमत न होने के कारण 13 दिनों में ही सरकार गिर गई.
  • 1998 के लोकसभा चुनाव में एक बार फिर बीजेपी सबसे बड़ी पार्टी के रूप में उभरी. पार्टी के 183 सांसद जीतकर आए. अटल बिहारी वाजपेयी एक बार फिर देश के प्रधानमंत्री बने. सरकार गिर गई और 1999 में फिर से चुनाव हुए. एक बार फिर अटल बिहारी वाजपेयी देश के पीएम बने.
  • 2004 के लोकसभा चुनाव में बीजेपी ने इंडिया शाइनिंग का नारा दिया. लेकिन पार्टी को शिकस्त झेलनी पड़ी. पार्टी को 144 सीटें मिलीं. कांग्रेस ने डॉ. मनमोहन सिंह के नेतृत्व में गठबंधन की सरकार बनाई.
  • 2005 में राजनाथ सिंह ने पार्टी का नेतृत्व संभाला. लेकिन 2009 के लोकसभा चुनाव में फिर बीजेपी का जादू नहीं चला. बीजेपी के 119 सांसद चुनकर आए.
  • 2010-13 तक नितिन गडकरी ने पार्टी की कमान संभाली. 2014 लोकसभा चुनाव से एक साल पहले राजनाथ सिंह को पार्टी का अध्यक्ष बनाया गया. पार्टी ने नरेंद्र मोदी के नाम पर अमित शाह जैसे रणनीतिकार के नेतृत्व में चुनाव लड़ा और पहली बार केंद्र में बीजेपी की पूर्ण बहुमत की सरकार बनी.
  • लोकसभा में अप्रत्याशित जीत के बाद अमित शाह को पार्टी का अध्यक्ष बनाया गया. पीएम मोदी और अमित शाह की लीडरशिप में बीजेपी ने कई राज्यों के चुनाव जीते. फिलहाल देश के 17 राज्यों में बीजेपी और उसके सहयोगी दलों की सरकार हैं.

Related Post