सिमस माता
11
May

सिमसा माता मंदिर – जहां फर्श पर सोने से मिलती है संतान

भारत के हिमाचल प्रदेश के मंडी जिले में लड़-भड़ोल तहसील में स्थित है सिमसा माता मंदिर जहां सोने से महिलाओं की सूनी गोद माँ भर देती है प्रतिवर्ष हज़ारो निसंतान जोडे वहां जाते है.माँ के दरबार मे जाने से हज़ारो महिलाओ को संतान प्राप्ति हुई है ऐसा माना जाता है.पड़ोसी राज्यो हरियाणा,चंडीगढ़ और पंजाब से अनेक महिलाये मंदिर परिसर में आती है नवरात्रि में यहां विशेष होने वाले इस उत्सव को सलिन्दरा कहा जाता है जिसका अर्थ है स्वप्न का आना.महिलाये मन्दिर के फर्श पर सोती है कहते है कि माँ सपने में उन्हें प्रतीक या मानव रूप में दर्शन देती है और उनकी सूनी गोद भर देती है.

स्वप्न के भिन्न भिन्न अर्थ

यदि किसी महिला को सपने में कंद-मूल या फल प्रपात होता है तो समझा जाता है उस महिला को संतान का आशीर्वाद प्राप्त हुआ है,सिमसा देवी स्वप्न के माध्यम से यह भी बताती है कि आने वाली संतान कैसी होगी,अगर सपने में अमरूद मिलता है तो माना जाता है पुत्र प्राप्ति होगी और अगर किसी को सपने में भिंडी प्राप्त होती है तो समझा जाता है कि आने वाली संतान लड़की होगी.यदि किसी महिला को धातु,लकड़ी या पत्थर की बनी वस्तु दिखाई देती है इसका मतलब है कि अब उनके संतान नही होगी अगर इसके बावजूद भी महिला फर्श पर से बिस्तर नही हटाती है तो उसके शरीर पर लाल दाने निकलना शुरू हो जाते है जिसके बाद उन्हें मंदिर छोड़ना ही होता है.

Related Post