• Call: +91 991 146 6478
    • Email us: info@exploreindia.xyz

Story

  • sakat-chauth
    24
    Jan

    सकट चौथ की कथा

    एक प्रचलित कथा के अनुसार एक गांव में एक साहूकार और साहूकारनी रहते थे। दोनों ही कोर्इ पूजा पाठ नहीं करते थे। संभवत इसी कारण उनकी कोर्इ संतान नहीं...

    Read More
  • स्वर्ग का सेब
    29
    Aug

    स्वर्ग का सेब

    एक बार स्वर्ग से घोषणा हुई कि भगवान सेब बॉटने आ रहे है सभी लोग भगवान के प्रसाद के लिए तैयार हो कर लाइन लगाकर खड़े हो गए। एक...

    Read More
  • mother love
    08
    Jun

    माँ भोली है या मैं अज्ञानी

    कल बाज़ार में फल खरीदने गया, तो देखा कि एक फल की रेहड़ी की छत से एक छोटा सा बोर्ड लटक रहा था, उस पर मोटे अक्षरों से लिखा...

    Read More
  • radhe-radhe
    08
    Jun

    किशोरी जी की कृपा

    बरसाना में श्री रुप गोस्वामी चेतन्य महाप्रभु के छः शिष्यो में से एक। एक बार भ्रमण करते करते अपने चेले जीव गोस्वामी जी के यहाँ बरसाना आए। जीव गोस्वामी...

    Read More
  • lord krishna
    08
    Jun

    वह सर्वशक्तिमान है

    एक शख्स गाड़ी से उतरा.. और बड़ी तेज़ी से एयरपोर्ट में घुसा , जहाज़ उड़ने के लिए तैयार था , उसे किसी कांफ्रेंस मे पहुंचना था जो खास उसी...

    Read More
  • सच्चा आनंद
    10
    May

    सच्चा आनंद

    एक भिखारी किसी किसान के घर भीख माँगने गया, किसान की स्त्री घर में थी उसने चने की रोटी बना रखी थी। किसान आया उसने अपने बच्चों का मुख...

    Read More
  • प्रभु का स्मरण
    10
    May

    सच्चे मन से प्रभु का स्मरण करेंगे तो प्रभु अवश्य सुनेंगे

    अभिमन्यु की पत्नी उत्तरा के पास द्रौपदी गई उसके सिर पर प्यार से हाथ फेरते हुए बोली,” पुत्री भविष्य में कभी तुम पर दुख,पीड़ा या घोर से घोर विपत्ति...

    Read More
  • राज क धर्म
    10
    May

    राजा का धर्म

    एक राजा था। बहुत ही उदार, प्रजावत्सल। सभी का ख्याल रखने वाला। उसके राज्य में अनेक शिल्पकार थे। एक से बढ़कर एक, बेजोड़ राजा ने उन शिल्पकारों की दुर्दशा...

    Read More
  • shree krishna
    09
    Jan

    भक्त वह है जो एक क्षण के लिए भी विभक्त नहीं होता

    एक गांव में एक निर्धन जुलाहा दम्पत्ति रहता था। जुलाहे के नाम था सुन्दर और उसकी पत्नी का नाम था लीला। दोनों पति-पत्नी अत्यंत परिश्रमी थे। सारा दिन परिश्रम...

    Read More
  • jagannath ji
    02
    Jan

    भगवान नकद चढ़ाए पैसे नहीं करते स्वीकार, उन्हें पसंद है ये भेंट

    पुरानी बात है। एक सेठ के पास एक व्यक्ति काम करता था। सेठ उस व्यक्ति पर बहुत विश्वास करता था। जो भी जरूरी काम हो सेठ हमेशा उसी व्यक्ति...

    Read More
  • 1
  • 2
× How can I help you?